सिद्धू मूसे वाला | एक मामूली लडके की टैलेंटेड सिंगर बनने तक और फिर दर्दनाक मौत तक की कहानी |

Admission

जानिए सिद्धू मूसेवाला की जिंदगी की ये कहानी।

कहा जाता है कि कला को कक्षा में सीखकर हासिल नहीं किया जा सकता, यह एक जन्मजात व्यक्ति के पास होता है।यह बात फिल्मी दुनिया से जुड़े कई कलाकारों ने साबित किया है।

सिंगर सिद्धू मूसेवाला ऐसे ही कलाकारों में से एक थे।पंजाबी इंडस्ट्री में मशहूर सिंगर सिद्धू, जिन्हें रविवार को 40 गोलियों से भून दिया गया था, ने भी 7 साल की उम्र में अपने करियर का फैसला कर लिया था।

हालांकि इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग की पढ़ाई के दौरान उनकी गायक बनने की इच्छा प्रबल हो गई।कॉलेज के दौरान उनकी मुलाकात एक जाने-माने गीतकार से हुई।

सिद्धू ने लाइसेंस नाम का पहला गाना लिखा था।हालांकि, उन्होंने यह गाना नहीं गाया क्योंकि उस समय उनके पास गाने के लिए पर्याप्त समझ नहीं थी।

पहला गाना कंपोज करने के बाद सिद्धू कनाडा में बस गए, जिसके बाद पंजाबी इंडस्ट्री में उनकी लोकप्रियता इतनी बढ़ गई कि उनके शो लंदन जैसे शहरों में होने लगे।कहा जाता है कि सिद्धू के गाने जिम में ज्यादा लोकप्रिय थे।

कहा जाता है कि इसी लोकप्रियता के बाद ही सिद्धू, जिनका असली नाम शुभदीप था, ने अपने गांव का नाम मूसा रखा और उन्हें सिद्धू मूसेवाला के नाम से जाना जाने लगा। उन्होंने आप के खिलाफ चुनाव लड़ा था।

हालांकि उनके जीवन में उनकी लोकप्रियता को लेकर विवाद हमेशा से जुड़े रहे हैं। जिसमें उन पर एके-2 चलाना सीखने के लिए मुकदमा किया गया था। वहीं, एस्केप गॉट नाम के एक गाने को लेकर विवाद खड़ा हो गया था।