दादी वाले तेवर मे राहुल का धरना 45 साल पुरानी तस्वीर की कहानी

दादी वाले तेवर मे राहुल का धरना 45 साल पुरानी तस्वीर की कहानी…

Admission

फिलहाल देखा जा रहा है कि राजनीति में विवादों की लहर चल रही है.. कुछ समय पहले शुरू हुआ नुपर शर्मा विवाद अभी खत्म नहीं हुआ है, लेकिन अब हेरोल्ड मामले में सोनिया गांधी की मुश्किलें बढ़ गई हैं हेराल्ड केस एक की बात करें तो साल 1938 में जवाहरलाल नेहरू ने एसोसिएटेड जर्नल लिमिटेड नाम से एक कंपनी बनाई।

जिसमें 5000 अन्य स्वतंत्रता सेनानी शेयरधारक थे यानी कंपनी का किसी व्यक्ति विशेष से कोई संबंध नहीं था इस कंपनी ने नेशनल हेराल्ड नाम का एक अंग्रेजी अखबार प्रकाशित किया इसके अलावा इसने उर्दू में कौमी आवाज और हिंदी में नवजीवन नाम के समाचार पत्र प्रकाशित किए।

एसोसिएटेड जर्नल्स लिमिटेड ने वर्ष 2008 तक तीन भाषाओं में समाचार पत्र प्रकाशित किए। अखबारों के नाम पर कंपनी ने कई शहरों में सरकार से सस्ती कीमत पर जमीन का अधिग्रहण किया रिपोर्टों के अनुसार, एसोसिएटेड जर्नल्स लिमिटेड के 2010 तक 1,057 शेयरधारक थे। वर्ष 2008 में, कंपनी ने घाटे की घोषणा की और सभी समाचार पत्रों का प्रकाशन बंद कर दिया।

जिसके बाद बीजेपी के वरिष्ठ नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने सोनिया गांधी पर आरोप लगाया कि उन्होंने कांग्रेस पार्टी फंड से बिना ब्याज के एसोसिएटेड जर्नल्स लिमिटेड को 99 करोड़ रुपये का कर्ज दिया और बाद में इस कर्ज को वसूलने और एसोसिएटेड जर्नल्स लिमिटेड का स्वामित्व हासिल करने के लिए एक फर्जी कंपनी बनाई।

हालांकि जून 2014 में कोर्ट ने सुब्रमण्यम स्वामी की अर्जी के आधार पर सोनिया गांधी और राहुल गांधी के खिलाफ समन जारी किया था। जिसके बाद ईडी ने अगस्त में मनी लॉन्ड्रिंग का मामला भी दर्ज किया था। जिसमें सोनिया गांधी और राहुल गांधी को 2015 में जमानत मिल गई थी।

हालांकि, अब यह हेराल्ड मामला फिर से विवादों में आ गया है। फिलहाल इस मामले को लेकर ईडी ने सोनिया गांधी से कल पूछताछ की थी.इतना ही नहीं इस जांच का विरोध कर रहे राहुल गांधी और कांग्रेस के सांसदों को पुलिस ने विजय चौक पर गिरफ्तार कर लिया है।

हालांकि धरने के दौरान राहुल गांधी ने अपनी दादी इंदिरा गांधी जैसा रवैया दिखाया. कांग्रेस के सभी सांसद राष्ट्रपति भवन की ओर मार्च करने ही वाले थे कि उन्हें हिरासत में लिया गया। इस बीच राहुल गांधी ने कहा कि हमें धरने पर बैठने की इजाजत नहीं है, यहां पुलिस राज करती है. यह भारत का सच है। मोदीजी राजा हैं।

राहुल गांधी के हिरासत में लिए जाने के बाद कांग्रेस ने ट्वीट कर एक तस्वीर और एक कविता का हिस्सा साझा किया. फोटो में राहुल गांधी अपनी दादी और दिवंगत पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की तरह जमीन पर बैठे नजर आ रहे हैं इस तस्वीर के जरिए कांग्रेस ने यह बताने की कोशिश की है कि राहुल गांधी का रवैया उनकी दादी जैसा है।

ऐसे में कांग्रेस ने इस तस्वीर के जरिए राहुल गांधी की तुलना इंदिरा गांधी से करने की कोशिश की है. वह राहुल गांधी को अपनी दादी की तरह जुनून के रूप में चित्रित करते हैं इस फोटो को शेयर करते हुए कांग्रेस नेताओं ने लिखा कि इतिहास बनाया जा रहा है।

इसके साथ ही उन्होंने लेखक और कवि दिनकर साहब की पुस्तक रश्मिर्थी से चार पंक्तियाँ लिखी हैं हालांकि अगर बात करें इंदिरा गांधी की उस फोटो की जिससे राहुल गांधी की तुलना की जा रही है तो इंदिरा गांधी की वह फोटो उनकी किताब ए लायन इन द डे ऑफ इंदिरा गांधी में मिलती है।